Latest Post

Islam 5 Chizo Par Banaya Gaya Hai
Hazrat Ibne Umar (Radiallahu Anhu) Se Marvi Hai Ke Huzur ﷺ Ne Farmaya:-
fasting, hadith of the day, hajj, hazrat ibn umar, hazrat muhammad, islam ke 5 farz in urdu, Islam Ki Buniyad Kya Hai, Islamic Images, Pillars of Islam, quran aur hadees, roza, sahadat, salah, short hadees, zakat,
Islam 5 Chizo Par Banaya Gaya Hai
1⃣ Allah Ke Siwa Koi Ibadat Ke Layak Nahi Aur Hazrat Muhammed Mustafa ﷺ Allah Ke Bande Aur Rosool Hai,
2⃣ Namaz Kayam Karna,
3⃣ Zakat Dena,
4⃣ Haj Karna,
5⃣ Roza Rakhna.
[Bukhari Sharif, Muslim Sharif]

Related Post:



allah, quran, message,

अल्लाह के कुरान में इंन्सानियत (मानवता) को 100 के करीब सीधे हुक्म..!

1. बदज़ुबानी से बचो (3: 159)
2. गुस्से को पी जाओ (3: 134)
3. दूसरों के साथ भलाई करो (4:36)
4. घमंड से बचो (7:13)
5. दूसरों की गलतियां माफ करो (7: 199)
6. लोगों से नरमी से बात करो (20:44)
7. अपनी आवाज़ नीची रखों (31:19)
8. दूसरों का मज़ाक न उड़ाओ (49:11)
9. वालदैन का इज़्ज़त और उनकी फरमानबरदारी करो (17:23)
10. वालदैन की बेअदबी से बचो और उनके सामने उफ़ तक न कहो (17:23)
11. इजाज़त के बिना किसी के कमरे मे (निजी कक्ष) में दाखिल न हो (24:58)
12. आपस में क़र्ज़ के मामलात लिख लिया करो (2: 282)
13. किसी की अंधी तक़लीद मत करो (2: 170)
14. अगर कोई तंगी मे है तो उसे कर्ज़ उतारने में राहत दो (2: 280)
15. ब्याज मत खाओ (2: 275)
16. रिश्वत मत खाओ (2: 188)
17. वादों को पूरा करो (2: 177)
18. आपस में भरोसा कायम रखें (2: 283)
19. सच और झूठ को आपस में मिक्स न करो (2:42)
20. लोगों के बीच इंसाफ से फैसला करो (4:58)
21. इंसाफ पर मज़बूती से जम जाओ (4: 135)
22. मरने के बाद हर शख्स की दोलत उसके करीबी रिश्तेदारों में बांट दो (4: 7)
23. औरतों का भी विरासत में हक है (4: 7)
24. यतीमों का माल नाहक मत खाओ (4:10)
25. यतीमों का ख्याल रखो (2: 220)
26. एक दूसरे का माल नाजायज़ तरीक़े से मत खाओ (4:29)
27. किसी के झगड़े के मामले में लोगों के बीच सुलह कराओ (49: 9)
28. बदगुमानी से बचो (49:12)
29. गवाही को मत छुपाओ (2: 283)
30. एक दूसरे के भेद न टटोला करो और किसी की चुगली मत करो (49:12)
31. अपने माल में से खैरात करो (57: 7)
32. मिसकीन गरीबों को खिलाने की तरग़ीब दो (107: 3)
33. जरूरतमंद को तलाश कर उनकी मदद करो (2: 273)
34. कंजूसी और फिज़ूल खर्ची से बचा करो (17:29)
35. अपनी खैरात लोगों को दिखा ने के लिये और एहसान जताकर बर्बाद मत करो (2: 264)
36. मेहमानों की इज़्ज़त करो (51:26)
37. भलाई पर खुद अमल करने के बाद दूसरों को बढ़ावा दो (2:44)
38. ज़मीन पर फसाद मत करो (2:60)
39. लोगों को मस्जिदों में अल्लाह के ज़िक्र से मत रोको (2: 114)
40. सिर्फ उन से लड़ो जो तम से लड़ें (2: 190)
41. जंग के आदाब का ख्याल रखना (2: 191)
42. जंग के दौरान पीठ मत फेरना (8:15)
43. दीन में कोई ज़बरदस्ती नहीं (2: 256)
44. सभी पैगम्बरों पर इमान लाओ (2: 285)
45. हालत माहवारी में औरतों के साथ संभोग न करो (2: 222)
46. ​​मां बच्चों को दो साल तक दूध पिलाएँ (2: 233)
47. खबर दार ज़िना के पास किसी सूरत में नहीं जाना (17:32)
48. हुक्मरानो को खूबीे देखकर चुना करो (2: 247)
49. किसी पर उसकी ताकत से ज़्यादा बोझ मत डालो (2: 286)
50. आपस में फूट मत डालो (3: 103)

[ads-post]
51. दुनिया की तखलीक चमत्कार पर गहरी चिन्ता करो (3: 191)
52. मर्दों और औरतों को आमाल का सिला बराबर मिलेगा (3: 195)
53. खून के रिश्तों में शादी मत करो (4:23)
54. मर्द परिवार का हुक्म मरान है (4:34)
55. हसद और कंजूसी मत करो (4:37)
56. हसद मत करो (4:54)
57. एक दूसरे का कत्ल मत करो (4:92)
58. खयानत करने वालों के हिमायती मत बनो (4: 105)
59. गुनाह और ज़ुल्म व ज़यादती में मदद मत करो (5: 2)
60. नेकी और भलाई में सहयोग करो (5: 2)
61. अक्सरियत मे होना सच्चाई सबूत नहीं (6: 116)
62. इंसाफ पर कायम रहो (5: 8)
63.जुर्म की सज़ा मिशाली तौर में दो (5:38)
64. गुनाह और बुराई आमालियों के खिलाफ भरपूर जद्दो जहद करो (5:63)
65. मुर्दा जानवर, खून, सूअर का मांस निषेध हैं (5: 3)
66. शराब और नशीली दवाओं से खबरदार (5:90)
67. जुआ मत खेलो (5:90)
68. दूसरों के देवताओं को बुरा मत कहो (6: 108)
69. लोगों को धोखा देने के लिये नाप तौल में कमी मत करो (6: 152)
70. खूब खाओ पियो लेकिन हद पार न करो (7:31)
71. मस्जिदों में इबादत के वक्त अच्छे कपड़े पहनें (7:31)
72. जो तुमसे मदद और हिफाज़त और पनाह के तलबगार हो उसकी मदद और हिफ़ाज़त करो (9: 6)
73. पाक़ी चुना करो (9: 108)
74. अल्लाह की रहमत से कभी निराश मत होना (12:87)
75. अज्ञानता और जिहालत के कारण किए गए बुरे काम और गुनाह अल्लाह माफ कर देगा (16: 119)
76. लोगों को अल्लाह की तरफ हिकमत और नसीहत के साथ बुलाओ (16: 125)
77. कोई किसी दूसरे के गुनाहों का बोझ नहीं उठाएगा (17:15)
78. मिसकीनी और गरीबी के डर से बच्चों की हत्या मत करो (17:31)
79. जिस बात का इल्म न हो उसके पीछे मत पड़ो। (17:36)
80. निराधार और अनजाने कामों से परहेज़ करो (23: 3)
81. दूसरों के घरों में बिला इजाज़त मत दाखिल हो (24:27)
82. जो अल्लाह में यकीन रखते हैं, अल्लाह उनकी हिफाज़त करेगा (24:55)
83. ज़मीन पर आराम और सुकून से चलो (25:63)
84. अपनी दुनियावी ज़िन्दगी को अनदेखा मत करो (28:77)
85. अल्लाह के साथ किसी और को मत पुकारो (28:88)
86. समलैंगिकता से बचा करो (29:29)
87. अच्छे कामों की नसीहत और बुरे कामों की ममानत करो (31:17)
88. ज़मीन पर शेखी और अहंकार से इतरा कर मत चलो (31:18)
89. औरतें अपने बनाओ सिनघार तकब्बुर न करें (33:33)
90. अल्लाह सभी गुनाहों को माफ कर देगा सिवाय शिर्क के (39:53)
91. अल्लाह की रहमत से मायूस मत हो (39:53)
92. बुराई भलाई से दफा करो (41:34)
93. सलाह से अपने काम अंजाम दो (42:38)
94. तुम से ज़्यादा इज़्ज़त वाला वो है जिसने सच्चाई और भलाई इख्तियार की हो (49:13)
95. दीन मे रहबानियत मौजूद नहीं (57:27)
96. अल्लाह के यहां इल्म वालों के दरजात बुलंद हैं (58:11)
97. ग़ैर मुसलमानों के साथ उचित व्यवहार और दयालुता और अच्छा व्यवहार करो (60: 8)
98. अपने आप को नफ़्स की हर्ष पाक रखो (64:16)
99. अल्लाह से माफी मांगो वो माफ करने और रहम करनेवाला है (73:20).

Related Post:

بِسْــــــمِ اللّٰهِ الرَّحْمٰنِ الرَّحِیْمِ
HADEES:
Auliya Se Dushmani Allah Taala Se Jung Karna Hai, short hadees, hadith of the day, friend of allah, battle, urdu hadees, quran, wali allah, mazar image, tomb image
“Hazrat Abu رضوان اللہ تعالی Se Riwayat He Ke Huzoor Nabi-E-Akram ﷺ Ne Farmaya :_
Allah Ta’ala Farmata Hai : Jo Merey Kisi Wali Sey Dushmani Rakhe Me Us Se Elaane Jung Karta Hoo’n Aur Mera Banda Aisee Kisi Cheez Ke Zariye Mera Qurb Nahin Paata Jo Mujhe Farzon Se Zyada Mehboob Ho Aur Mera Banda Nafli Ibadat Ke Zariye Baraabar Mera Qurb Haasil Karta Rahta Hai.

Yahan Tak Ke Mein Us Se Muhabbat Karne Lagta Hoo’n Aur Jab Mein Us Se Muhabbat Karta Hoo’n To Mein Us Ka Kaan Ban Jaata Hoo’n Jis Se Woh Sunta Hai Aur Us Ki Aankh Ban Jaata Hoo’n Jis Sey Woh Dekhta Hai Aur Us Ka Haath Ban Jaata Hoo’n Jis Se Woh Pakarta Hai Aur Us Ka Paanw Ban Jaata Hoo’n Jis Se Woh Chalta Hai.

Agar Woh Mujh Se Sawal Karta Hai To Mein Use Zaroor Ata Karta Hoo’n Aur Agar Woh Meri Panaah Maangta Hai To Mein Zaroor Use Panaah Deta Hoo’n. Mein Ney Jo Kaam Karna Hota Hey Us Mey Kabhi Is Tarah Mutardid (Fikramand) Nahin Hota Jaise Banda-E-Momin Key Jaan Lene Me Hota Hoo’n, Use Mowt Pasand Nahi Aur Mujhe Us Ki Takleef Pasand Nahin.”
[Bukhari As-Shahih, Jild : 05  Safa : 2384, Hadees : 6137,]
[Ibn Hibban As-Shahih, Jild : 02  Safa : 58, Hadees : 347,]
[Bayhaqi As-Sunan-Ul-Kubra, Jild : 10  Safa : 219, Baab(60), Kitab-Uz-Zuhad Al-Kabir, Jild : 02  Safa : 269, Hadees : 696.]

Related Post:

Jung E Badr Also Know as Ghazwa e Badr or Battle of Badr.

HADEES:
Jung E Badr Ka Waqia, mecca, 313 warriors, 17 ramadan, battle of badr, islamic wallpaper, hazrat muhammad, sahabah kiram, Kafir, abu lahab, islamic war, prophet muhammad prediction
Jung-A-Badr Ki Hadees May Hazrat Anas Radi-Allahu-Ta'aala-Anhu Se Marwi Hain Ki Huzoor SALLALLAHU-TA'AALA-ALAIHI-WASALLAM Ne Maidan-A-Jung May Jung Se Pehle Zamin Per Apna Hath Rakhker Farmaya, Ki Yeh Fala Kaafir Ke Marne Ki Jagah Hain Aur Yeh Fala Ke!

Raawi Kehte Hain Ki Jisko Rasoolallah SALLALLAHU-TA'AALA-ALAIHI-WASALLAM Ne Jahan Hath Rakhker Farmaya Tha Wahin Per Wo Maara Gaya!

ALLAH Ne Apne Rasool Ko Kis-Qadr Ilm Ata Farmaya Hain Ki Abhi Jung Nahi Hui Hain Aur Aapne Ek-Ek Kaafir Ke Maare Jane Ki Jagah Ki Nishaan-Dehi Farma Di! Goya Aap Yeh Bhi Jaante The Ki Kaun-Kaun Maara Jayega Aur Yeh Bhi Jaante The Ki Kahan Maara Jayega!
(Sahi-Muslim Jild-2,Pg-102)
(Nasayi Pg-226)
कहा मरेंगे अबू जहल - उत्बा ओ शैबा
की जंगे बद्र का नक्शा हुजुर जानते हे

Related Post:

hazrat bibi ayesha siddiqa grave, medina munawwara, jannat ul baqi, ummul mu'aminin mazar, prophet muhammad wives, short biography, history
Ummul Mu'aminin Hazrat Sayyeda Aayesha Siddiqa Radiallahu Ta’ala Anhu – Short Biography Hindi, Urdu
Ummul Mominin Hazrat Sayyeda Aaisha Siddiqa رضی اللہ عنہا Amirul Mominin Hazrat Sayyedna Abu Baqr Siddiq رضی اللہ عنہ Ki Sahabzadi He. Inki Walida Ka Naam ‘Umme Rooman’ He . Aapka Nikah Huzur E Aqdas صلی اللہ علیہ و سلم Se Hijrat Se Pehle Makka Mukarrama Me Hua Tha Lekin Kashana E Nubuwwat Me Ye Madina Munavvara Ke Andar Hijri 2 Me Aai . Aap Sarkar E Madina صلی اللہ علیہ و سلم Ki Mehbooba Aur Chahiti Biwi He .

🌷 Huzur E Sarvar E Qayenat صلی اللہ علیہ و سلم Ne Ummul Mominin Hazrat Sayyeda Aaisha Siddiqa رضی اللہ عنہا Ke Bare Me Irshad Farmaya Ke “Ae Umme Salma ! (رضی اللہ عنہا ) Mujhe Aaisha (رضی اللہ عنہا ) Ke Bare Me Koi Taklif Na Do . Allah Ki Qasam ! Mujh Par Aaisha (رضی اللہ عنہا ) Ke Siva Tum Me Se Kisi Biwi Ke Lihaaf Me Vahi Nazil Nahi Hui ”
[ads-post]
🌷 Fiqah Va Hadees Ke Uloom Me Huzur صلی اللہ علیہ و سلم Ki Azvaaj Ke Darmiyan Sayyedna Aaisha Siddiqa رضی اللہ عنہا Ka Darja Bahot Uncha He . Bade Bade Sahaba E Kiram Aapse Masaail Pucha Karte The . Aapke Fazail O Manaqib Me Bahot Si Hadees e Aayi He .

🌷 Aapka Visal E Paak 17 Ramzan Ul Mubarak Ko Madina Munawara Me Hua . Hazrat Sayyedna Abu Huraira رضی اللہ عنہ Ne Aapki Namaz E Janaza Padhayi Aur Aapki Wasiyat Ke Mutabiq Raat Me Logo Ne Aapko Jannat Ul Baqi Sharif Ke Qabrastan Me Dusri Azvaaj E Mutahharat Ke Pehlu Me Dafn Kiya .
[Hawala Kitab - Faizane Aayesha Siddiqa]

Related Post:


بِسْــــــمِ اللّٰهِ الرَّحْمٰنِ الرَّحِیْمِ

Gaus Paak Ki Karamat : Wafat Ke Baad Qabar Se Nikal Kar Mureed Banana

Kisi Shahar(City) me Hazrat e Syedna Abdul Qadir Jeelani رحمة الله تعالي عليه ka ek Aqeedat Mand Rehta tha us ne Silsila e Aaliya Qadriya me Dakhil hone ka Irada bhi kar Rakha tha Isi Garaz se Ek Din Door Daraaz ka safar tai kar ke Baghdad Sharif pahucha to unko ma’lum hua ki Hazrat e Sayyiduna gause Aa’zam Sheikh Abdul Qadir Jeelani رحمة الله تعالي عليه ka Inteqal ho chuka hai. Akhir usne Aap رحمة الله تعالي عليه ki Qabr Mubarak ki Ziyarat karne ka Irada kiya aur Qabr Mubarak par hazir ho kar aa’dabe Ziyarat baja laya, to kya dekhta hai ki Huzur Gause Aa’zam رحمة الله تعالي عليه Apni Qabr Sharif se Nikle Aur Uska hath Pakad kar Use Apni Tawajjo se Nawaza aur Apne Silsilae Aaliya Qadriya me dakhil farma liya.
[Tafar Tahta Al Khatar, S: 189]
[Gause Paak Ke Halaat (Hindi), Page No.: 75-76]
[ads-post]

Related Buzurgan e deen ki Karamat:

Contact Form

Name

Email *

Message *