Latest Post

Safar Ka Mahina Aur Badshaguni Ki Haqeeqat In Islam | Facts About The Month Of Safar:

Kya Aap Jante He?

Safar Ka Mahina Accha Hai Ya Bura?

Islamic Calendar Me Safar Ek Mahine Ka Naam Hai, Kuch Logo Ka Esa Manna Hai Ke Ye Mahina Bahut Manhoos Hai, Isme Aafat/Balaen Naazil Hoti He, Aur Iske Liye Wo Kuch Jhooti Riwayato Ki Bhi Daleel Dete Hain, Iske Alawa Kaha Jata Hai Ke Is Mahine Me Shadi Nahi Karna Chahiye, Safar (Travelling) Nahi Karna Chahiye, Kuch Accha Ya Naya Kaam Nahi Shuru Karna Chahiye, Is Mahine Ki 13 Taarikh Ko Bura Maana Jata Hai, Aakhri Budh Ko Accha Ya Bura Maana Jata Hai, Is Mahine Ke Aakhri Budh Ko Kuch Log Baag-Bageeche Jaate He Aur Ek Jhuti Riwayat Pesh Karte He Ke Is Din Sarkar E Madina (صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم ) Ki Bukhar Se Tabiyat Acchi Hui Thi To Baag-Bageeche Gaye The, Isliye Hum Bhi Jayenge. Aur Is Tarah Ki Bahut Si Man-Ghadat Baate Hum Logo Me Feli Hui He. Ab Iski Quran Aur Hadees Ki Roshni Me Hakikat Kya Hai, Wo Samajhte Hain.
[ads-post]
Hakikat Baat Ye Thi Ke Arab Ke Log Zamana-E-Jaaheliyat Me (Islam Aane Se Pehle ) Is Mahine Ko Bura Samajhte The, Aafat /Balaon Wala Samajhte The, Manhoos Samajhte The. Lekin Huzoor Sarkare Madina (صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم ) Ke Tashreef Laane Ke Baad, Aapne Sahi Baat Logo Tak Pahuchai. Aapne Farmaya (Ye Ek Hadees Hai, Jisme Zyada Baate He, Lekin Uski Ek Baat Me Huzoor (صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم ) Ne Farmaya Ke Safar Kuch Nahi Hai, Is Baat Se Aapka Matlab Ye Hai Ke Ye Koi Manhoos Mahina Nahi Hai, Na Hi Isme Balaen Naazil Hoti Hain.
[Bukhari/Muslim]

Safar Ke Mahine Ko Nahusat Wala, Aafat Balaon Wala Hone Ki Shariyat Me Koi Daleel Nahi. Islam Me Koi Nahusat Wala Din Ya Mahina Nahi Maana Jata. Saare Mahine Barabar He, Ha Rahmato Barkato Ke Hisab Se Unke Darje Kam Zyada Ho Sakte Hain, Jese Ramzan Me Rahmate/Barkate Zyada Nazil Hoti Hain, Lekin Nahusat Ke Hisab Se Kisi Ko Kam Zyada Bolna Islam Ke Usool Ke Khilaf Hai.

Isliye Is Mahine Me Safar Kiya Kijiye, Shadi Kiya Kijiye, Khushi Wale Kaam, Naye Kaam Kiya Kijiye.

Hazrat E Moula E Kayenat  Aliye Murtaza رضی اللہ عنہ Aur Hazrat E Fatema Zahra رضی اللہ عنہا Ki Shadi Is Mahine Me Hui. Agar Is Mahine Me Shadi Karna Mana Hota To Kya Hamare Pyare Nabi Huzoor  (صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم ) Esa Karte?

Allah Hume Sahi Samajh Ata Farmaye...
Aameen

Related Hadees:

Baarwein Ka Chand Aaya, Baarwein Ka Chand
Baarwein Ka Chand Aaya, Baarwein Ka Chand

Jhande Lagao, Ghar Ko Sajao,
Karke Charaga, Khushiya Manao, Jhoomo...

Baarwein Ka Chaand Aaya, Baarwein Ka Chaand
Baarwein Ka Chaand Aaya, Baarwein Ka Chaand

Aamad e Mustafa Marhaba...
Aamad e Mujtaba Marhaba...

Bacha Bacha Muskuraya Baarwein Ka Chaand Aaya
Khushiyun Ka Tufaan Laya Baarwein Ka Chaand Aaya

Shaadmani Ke Taraane Goonjte Hain Daher Mein
Wajd Mein Har Shakhs Aaya Baarwein Ka Chaand Aaya

Roshni Hee Roshni Hai Chandni Hee Chandni
Zarra Zarra Jagmagaya Baarwein Ka Chaand Aaya

Ho Gaye Hain Band Saare Zulmaton Ke Baab Aaj
Daher Mein Woh Noor Aaya Baarwein Ka Chaand Aaya

Khil Utheen Kaliyan Muhabbat Ki Gulon Par Hai Nikhaar
Baagh-e-Ulfat Lehlahaya Baarwein Ka Chaand Aaya

Saaz-e-Jaan Per Baj Raha Hai Ek Nagma Baar Baar
Aamena Ka Laal Aaya Baarwein Ka Chaand Aaya

Shukar Karte Hee Raho Rab Ka Ujaagar Subho Shaam
Rab Ka Kaisa Fazal Paaya Baarwein Ka Chaand Aaya

Barwein Ka Chand Aaya, Barwein Ka Chand,
Barwein Ka Chand Aaya, Barwein Ka Chand

Naat: Barwein Ka Chand Aaya Lyrics
Naat Khawan: Ghulam Mustafa Qadri

Related Naat Lyrics:

بِسْــــــمِ اللّٰهِ الرَّحْمٰنِ الرَّحِىْمِ
اَلصَّــلٰوةُ وَالسَّلَامُ عَلَيْكَ يَا رَسُوْلَ اللّٰه ﷺ

ख़ुत्बा सुनने व बैठने के एहकाम | Khutba Sunne Wa Bethne Ke Ahkam


जो काम नमाज़ की हालत में करना हराम और मना है, ख़ुत्बा होने की हालत में भी हराम और मना है।
[हुल्या, जामऊर्-रमुज़, आलमगीरी, फतावा रज़विय्या]

ख़ुत्बा सुनना फ़र्ज़ है और ख़ुत्बा इस तरह सुनना फ़र्ज़ है कि हमा-तन (समग्र एकाग्रता) उसी तरफ तवज्जोह दे और किसी काम में मश्गुल न हो। सरापा तमाम आज़ा ए बदन उसी की तरफ मुतवज्जेह होना वाजिब है। अगर किसी ख़ुत्बा सुनने वाले तक खतीब की आवाज़ न पहुचती हो, जब भी उसे चुप रहना और ख़ुत्बा की तरफ तवज्जोह रखना वाजिब है। उसे भी किसी काम में मश्गुल होना हराम है।
[फत्हुल क़दीर, रद्दुल मोहतार, फतावा रज़विय्या]

ख़ुत्बा के वक़्त ख़ुत्बा सुननेवाला "दो जानू" यानी नमाज़ के क़ायदे में जिस तरह बैठते है उस तरह बैठे।
[आलमगीरी, रद्दुल मोहतार, गुन्या, बहारे शरीअत]
[ads-post]
ख़ुत्बा हो रहा हो तब सुनने वाले को एक घूंट पानी पीना हराम है और किसी की तरफ गर्दन फेर कर देखना भी हराम है।
ख़ुत्बा के वक़्त सलाम का जवाब देना भी हराम है।
जुमुआ के दिन ख़ुत्बा के वक़्त खतीब के सामने जो अज़ान होती है, उस अज़ान का जवाब या दुआ सिर्फ दिल में करें। ज़बान से अस्लन तलफ़्फ़ुज़ (उच्चार) न हो।
जुमुआ की अज़ाने सानी (ख़ुत्बे से पहले की अज़ान) में हुज़ूर صلى الله عليه وسلم का नाम सुनकर अंगूठा न चूमें और सिर्फ दिल में दुरुद शरीफ पढ़े।
[फतावा रज़विय्या]

ख़ुत्बा में हुज़ूर صلى الله عليه وسلم का नाम सुन कर दिल में दुरुद शरीफ पढ़े, ज़बान से खामोश रहना फ़र्ज़ है।
[दुर्रे मुख्तार, फतावा रज़विय्या]

जब इमाम ख़ुत्बा पढ़ रहा हो, उस वक़्त वज़ीफ़ा पढ़ना मुतलक़न ना जाइज़ है और नफ्ल नमाज़ पढ़ना भी गुनाह है।

ख़ुत्बा के वक़्त भलाई का हुक्म करना भी हराम है, बल्कि ख़ुत्बा हो रहा हो तब दो हर्फ़ बोलना भी मना है। किसी को सिर्फ "चुप" कहना तक मना और लग्व (व्यर्थ) है।

सहाह सित्ता (हदिष की 6 सहीह किताबों) में हज़रते अबू हुरैरा رضي الله عنه से रिवायत है कि हुज़ूर صلى الله عليه وسلم फ़रमाते है कि बरोज़े जुमुआ ख़ुत्ब ऐ इमाम के वक़्त तूँ दूसरे से कहे "चुप" तो तूने लग्व (व्यर्थ काम) किया।

इसी तरह मुसन्दे अहमद, सुनने अबू दाऊद में हज़रत अली كرم الله وجهه الكريم से है कि हुज़ूर ﷺ फ़रमाते है कि जो जुमुआ के दिन (ख़ुत्बा के वक़्त) अपने साथी से "चुप" कहे उसने लग्व किया और जिसने लग्व किया उसके लिये जुमुआ में कुछ "अज्र" (षवाब) नही।

ख़ुत्बा सुनने की हालत में हरकत (हिलना-डुलना) मना है। और बिला ज़रूरत खड़े हो कर ख़ुत्बा सुनना खिलाफे सुन्नत है। अवाम में ये मामूल है कि जब खतीब ख़ुत्बा के आखिर में इन लफ़्ज़ों पर पहुचता है "व-ल-ज़ीक़रुल्लाहे तआला आला" तो उसको सुनते ही लोग नमाज़ के लिये खड़े हो जाते है। ये हराम है, कि अभी ख़ुत्बा नही हुआ, चंद अलफ़ाज़ बाक़ी है और ख़ुत्बा की हालत में कोई भी अमल करना हराम है।
[फतावा रज़विय्या]
[मोमिन की नमाज़ - 220]

Related Article:

Contact Form

Name

Email *

Message *