हदीस शरीफ इन हिंदी - 18 Islamic Hadees In Hindi Roman Urdu English

बिदआत व मुनकिरात हिन्दी/Hinglish | हदीस शरीफ इन हिंदी - 18 Islamic Hadees In Hindi Roman Urdu English

  1. मर्द का कांधे तक बाल रखना सुन्नत से साबित है मगर इससे ज़्यादा बढ़ाना हराम है.
    [अहकामे शरीयत, हिस्सा 1, सफह 127]

  2. खुत्बे की अज़ान के बाद खुत्बे से पहले या बाद में उर्दू में उसका तर्जुमा बयान करना खिलाफ़े सुन्नत है.
    [रद्दे बिदअत व मुनकिरात, सफह 298]

  3. जिस निक़ाह में मीयाद तय हो मसलन कुछ दिन या महीने या साल के लिए निकाह होता हो ये हराम है.
    [फतावा अफ्रीका, सफह 51]

  4. एक हाथ से मुसाफा करना नसारा का तरीक़ा है मुसाफ दोनों हाथों से करना ही सुन्नत है.
    [बुखारी, जिल्द 2, सफह 926]

  5. ईमान और कुफ्र में कोई वास्ता नहीं मतलब ये कि या तो आदमी मुसलमान होगा या काफ़िर बीच की कोई राह नहीं.
    [बहारे शरीयत, हिस्सा 1, सफह 54]

  6. मर्द को 4.3 ग्राम से कम चांदी की एक अंगूठी एक नग की पहनना ही जायज़ है औरतों के लिए सोने चांदी में कोई क़ैद नहीं.
    [फतावा रज़विया, जिल्द 9, सफह 56]

  7. आलिम की तारीफ़ ये है कि अक़ायद का पूरा इल्म रखता हो और उस पर मुस्तक़िल हो और अपनी ज़रूरत के मसायल को किताबों से बग़ैर किसी की मदद के निकाल सके अगर ऐसा नहीं है तो वो आलिम नहीं और ऐसे को तक़रीर करना हराम है.
    [अलमलफूज़, हिस्सा 1, सफह 7]

  8. मर्द या औरत का नसबंदी करा लेना हराम और सख्त हराम है.
    [फतावा मुस्तफवियह, सफह 530]

  9. अगर मुसलमान किसी काफिर या मुनाफिक़ के मरने पर उसे मरहूम या स्वर्गवासी कहे या उसकी मग़फिरत की दुआ करे तो खुद काफिर है.
    [बहारे शरीयत, हिस्सा 1, सफह 55]

  10. जो ये अक़ीदा रखे कि हम काबे को सजदा करते हैं काफिर है कि सजदा सिर्फ खुद को है और काबा इमारत है ख़ुदा नहीं.
    [फतावा मुस्तफविया, सफह 14]
    [ads-post]
  11. ग़ैर मुस्लिमों के त्योहारों में शामिल होना हराम है और अगर माज़ अल्लाह उनकी कुफ्रिया बातों को पसंद करे या सिर्फ हल्का ही जाने जब तो काफ़िर है.
    [इरफाने शरीयत, हिस्सा 1, सफह 27]

  12. आखिर ज़माने में आदमी को अपना दीन संभालना ऐसा दुश्वार होगा जैसे हाथ में अंगारा लेना दुश्वार होता है.
    [कंज़ुल उम्माल, जिल्द 11, सफह 142]

  13. आखिर ज़माने में आदमी सुबह को मोमिन होगा और शाम होते होते काफिर हो जायेगा.
    [तिर्मिज़ी, जिल्द 2, सफह 52]

  14. फरिश्ते ना मर्द हैं और ना औरत वो एक नूरी मखलूक़ हैं मगर वो जो सूरत चाहें इख़्तियार कर सकते हैं पर औरत की सूरत नहीं इख़्तियार करते.
    [तकमील उल ईमान, सफह 9]

  15. जब हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम चौथे आसमान पर जिंदा हैं और हज़रत इदरीस अलैहिस्सलाम जन्नत में जिस्म के साथ मौजूद हैं तो फिर मेराज शरीफ में मेरे आक़ा सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम के जिस्मे अनवर के साथ सफर का इंकार क्यों.
    [मदारे जून नबूवत, जिल्द 2, सफह 391]

  16. उल्माये अहले सुन्नत ने अगर किसी को काफिर या बेदीन या गुमराह का फतवा दिया तो बेशक रब के नज़दीक भी वो वैसा ही ठहरेगा उस पर तौबा वाजिब है.
    [फतावा मुस्तफविया, सफह 615]

  17. कोई ग़ैर मुस्लिम मुसलमान होना चाहे तो उसे फौरन कल्मा पढ़ाया जाए कि जिसने भी उसे कल्मा पढ़ाने में ताख़ीर की तो खुद काफिर हो जायेगा.
    [फतावा मुस्तफविया, सफह 22]

  18. उसूले शरह 4 हैं क़ुरान हदीस इज्माअ और क़यास,जो इनमें से किसी एक का भी इंकार करे काफिर है.
    [फतावा मुस्तफविया, सफह 55]

Islamic Hadees Sharif In Roman Hindi Urdu English

  1. Mard Ka Kaandhe Tak Baal Rakhna Sunnat Se Saabit Hai Magar Isse Zyada Badhana Haraam Hai.
    [Ahkam E Shariat, Hissa 1, Safa 127]

  2. Khutbe Ki Azaan Ke Baad Khutbe Se Pahle Ya Baad Me Urdu Me Uska Tarjuma Bayaan Karna Khilaf E Sunnat Hai.
    [Radde Bidat Wa Munkirat, Safa 298]

  3. Jis Nikah Me Meeyad Tai Ho Maslan Kuchh Din Ya Mahine Ya Saal Ke Liye Nikah Hota Ho Ye Haraam Hai.
    [Fatawa Africa, Safa 51]

  4. Ek Haath Se Musafa Karna Nasaara Ka Tariqa Hai Musafa Dono Haathon Se Karna Hi Sunnat Hai.
    [Bukhari, Jild 2, Safa 926]

  5. Imaan Aur Kufr Me Koi Waasta Nahin Matlab Ye Ki Ya To Aadmi Musalman Hoga Ya Kaafir Beech Ki Koi Raah Nahin.
    [Bahar E Shariat, Hissa 1, Safa 54]

  6. Mard Ko 4.3 Gram Chandi Se Kam Ki Ek Anguthi Ek Nag Ki Pahenna Hi Jayaz Hai Aurton Ke Liye Sone Chaandi Me Koi Qaid Nahin.
    [Fatawa Razvia, Jild 9, Safa 56]

  7. Aalim Ki Taarif Ye Hai Ki Aqayad Ka Poora Ilm Rakhta Ho Aur Uspar Mustaqil Ho Aur Apni Zarurat Ke Masayal Ko Kitabon Se Bagair Kisi Ki Madad Ke Nikaal Sake Agar Aisa Nahin Hai To Wo Aalim Nahin Aur Aise Ko Taqreer Karna Haraam Hai.
    [Almalfooz, Hissa 1, Safa 7]

  8. Mard Ya Aurat Ka Nasbandi Kara Lena Haraam Aur Sakht Haraam Hai.
    [Fatawa Mustafviya, Safa 530]

  9. Agar Musalman Kisi Kafir Ya Munafiq Ke Marne Par Use Marhoom Ya Swargwasi Kahe Ya Uski Magfirat Ki Dua Kare To Khud Kafir Hai.
    [Bahar E Shariat, Hissa 1, Safa 55]

  10. Jo Ye Aqeeda Rakhe Ki Hum Kaabe Ko Sajda Karte Hain Kafir Hai Ki Sajda Sirf Khuda Ko Hai Aur Kaaba Imaarat Hai Khuda Nahin.
    [Fatawa Mustafviya, Safa 14]

  11. Gair Muslimon Ke Tyoharon Me Shaamil Hona Haraam Hai Aur Agar Maaz Allah Unki Kufriya Baaton Ko Pasand Kare Ya Sirf Halka Hi Jaane Jab To Kaafir Hai.
    [Irfan e Shariat, Hissa 1, Safa 27]

  12. Aakhir Zamane Me Aadmi Ko Apna Deen Sambhalna Aisa Dushwar Hoga Jaise Haath Me Angaara Lena Dushwar Hota Hai.
    [Kanzul Ummal, Jild 11,Safa 142]

  13. Aakhir Zamane Me Aadmi Subah Ko Momin Hoga Aur Shaam Hote Hote Kafir Ho Jayega.
    [Tirmizi, Jild 2, Safa 52]

  14. Farishte Na Mard Hain Aur Na Aurat Wo Ek Noori Makhlooq Hain Magar Wo Jo Surat Chahen Ikhtiyar Kar Sakte Hain Par Aurat Ki Surat Nahin Ikhtiyar Karte.
    [Takmeel Ul Iman, Safa 9]

  15. Jab Hazrat Isa Alaihis Salam Chouthe(4th) Aasman Par Zinda Hain Aur Hazrat Idrees Alaihis Salam Jannat Me Jism Ke Saath Maujood Hain To Fir Meraj Sharif Me Mere Aaqa Sallallahu Taala Alaihi Wasallam Ke Jisme Anwar Ke Saath Safar Ka Inkar Kyun.
    [Madarij Un Nabuwat, Jild 2, Safa 391]

  16. Ulmaye Ahle Sunnat Ne Agar Kisi Ko Kafir Ya Bedeen Ya Gumrah Ka Fatwa Diya To Beshak Rub Ke Nazdeek Bhi Wo Waisa Hi Thahrega Uspar Tauba Wajib Hai.
    [Fatawa Mustafviya, Safa 615]

  17. Koi Gair Muslim Musalman Hona Chahe To Fauran Kalma Padhaya Jaaye Ki Jisne Bhi Use Kalma Padhane Me Taakheer Ki To Khud Kafir Ho Jayega.
    [Fatawa Mustafviya, Safa 22]

  18. Usule Sharah 4 Hain Quran Hadis Ijma Aur Qayas, Jo Inme Se Kisi Ek Ka Bhi Inkar Kare Kaafir Hai.
    [Fatawa Mustafviya, Safa 55]
Related Articles:

हदीस शरीफ इन हिंदी - 18 Islamic Hadees In Hindi Roman Urdu English - इल्म का हासिल करना हर मुसलमान मर्द और औरत पर फर्ज है” | Small Hadees Sharif In Hindi, Islamic Hadees Sms For WhatsApp, Hadees Ki Baatein In Hindi, Hadees Ki Baatein In Hindi, Islamic Hadith Quotes In Hindi Urdu English

Post a Comment

[blogger]

Contact Form

Name

Email *

Message *