Khana Khane Ka Sunnat Tarika

Khana Khane Ka Sunnat Tarika | Islamic Sunnah Way Of Eating | Etiquette Of Eating in Islam

खाने का त़रीक़ा :

khana khane ka sunnat tarika, etiquette of eating, khana khane ke pehle ki dua, khane ke pehle dua padhna bhul gaya ho to padhne ki dua, khana khane ke bad ki dua, sunnah, prophet muhammad
खाना खाने से पहले और बाद में दोनों हाथ गिट्टों तक धोए, सिर्फ़ एक हाथ या सिर्फ़ उंग्लियां ही न धोए कि इस से सुन्नत अदा न होगी !

इस बात का ख़याल रखे कि खाने से पहले हाथ धो कर पोंछना नही चाहिये और खाने के बाद हाथ धो कर तौलिया या रूमाल से पोंछ लेना चाहिये ताकि खाने का असर बाकी़ न रहे !
(फ़तावा हिन्दीया, जिल्द-5, सफ़ह़ा-337)

Khana Khane Ke Pehle Ki Dua (Dua Before Meals):

Bismillahi Wa'ala Barkatillah 
बिस्मिल्लाह पढ़ कर खाना शुरू करे और बुलन्द आवाज़ से बिस्मिल्लाह पढ़े ताकि दुसरे लोगों को भी याद आ जाए और सब बिस्मिल्लाह पढ़ लें !
(फ़तावा हिन्दीया, जिल्द-5, सफ़ह़ा-337)

अगर शुरू में बिस्मिल्लाह पढ़ना भूल जाए तो जब याद आए तो ये दुआ़ पढ़ लीजिये :

بِسمِ اللَّهِ اَوَّلَهُ وَاَخِرَهُ
(बिस्मिल्लाहे अव्वलहु व आख़िरहु - Bismillahi Awwalahu Wa-Aakhirahu)
(तिरमिज़ी, जिल्द-3, सफ़ह़ा-339)
[ads-post]
* रोटी के ऊपर कोई चीज़ न रखी जाए और हाथ को रोटी से न पोंछे !
(रद्दुल मुह़तार, जिल्द-9, सफ़ह़ा-562)

* खाना हमेशा दाएं (सीधे) हाथ से खाए, बाएं (उल्टे) हाथ से खाना पीना शैत़ान का काम हैं !
(तिरमिज़ी, जिल्द-3, सफ़ह़ा-313)

* खाना खाते वक़्त बायां पांव बिछा दे और दाहिना पांव खड़ा रखे या सुरीन पर बैठे और दोनों घुटने खड़े रखे !
(अशआ़तुल लमआ़त, जिल्द-3, सफ़ह़ा-518)

* अगर भारी बदन या कमज़ोर होने की वजह से इस त़रह़ न बैठ सके तो पालती मार कर खाने में भी कोई ह़रज नही !

* खाना खाने के दरमियान में कुछ बातें भी करता रहे बिल्कुल चुप रहना मजूसियों का त़रीक़ा हैं मगर कोई बेहुदा या फोहड़ बात हरगिज़ न बके बल्कि अच्छी अच्छी बातें करता रहे !
(फ़तावा हिन्दीया, जिल्द-5, सफ़ह़ा-345)

* खाने के बाद उंग्लियों को चाट लें और बरतन को भी उंग्लियों से पोंछ कर चाट लें !
(फ़तावा हिन्दीया, जिल्द-5, सफ़ह़ा-337)

* हाथ से लुक्मा छूट कर गिर जाए तो उसे उठा कर खा लो, शैख़ी मत बघारो, कि इस का ज़ाएअ़ कर देना इसराफ़ हैं जो गुनाह हैं !

* बहुत ज़्यादा गर्म खाना न खाओ और न खाने को सूंघो और न खाने पर फूंक मार मार कर इस को ठंड़ा करो कि ये सब बातें ख़िलाफ़े अदब भी हैं और मुज़िर भी !
(रद्दुल मुह़तार, जिल्द-9, सफ़ह़ा-562)

* खाने की शरूआत नमक से करे और नमक ही पर ख़त्म करे कि इस में बहुत सी बीमारियों से शिफ़ा हैं !
(रद्दुल मुह़तार, जिल्द-9, सफ़ह़ा-562)

खाने के बाद ये दुआ़ पढ़े (Khana Khane Ke Baad Ki Dua/Dua After Eating):

اَلئحَمئدُ لِلَّهِ الَّذِئ اَطئعَمَناَ وَسَقَانَا وَكَفَانَا وَجَعَلَنَا مِنَ الئمُسئلِمِيئنَ
(Alhamdu Lillahil Lazi At Amana Wasakaana Waja Alna Minal Muslimeen)

* खाने के बाद साबुन लगा कर हाथ धोने में कोई ह़रज नही !

* खाना खा लेने के बाद दस्तरख़्वान पर साह़िबे ख़ाना और ह़ाज़िरीन के लिए ख़ैरो बरकत की दुआ़ मांगनी भी सुन्नत हैं !
(बहारे शरीअ़त, जिल्द-3, ह़िस्सा-16, सफ़ह़ा-18)

* सोने चांदी के बरतनों में खाना पीना जाएज़ नही बल्कि इन चीजों का किसी भी त़रह़ इस्तेमाल करना दुरुस्त नही जैसे सोने चांदी का चम्मच इस्तेमाल करना या इस के बने हुए ख़िलाल से दांत साफ़ करना या चांदी की सलाई से सुरमा लगाना येह सब ह़राम हैं !
(दुर्रे मुख़्तार, जिल्द-9, सफ़ह़ा-564)

Khaane Ke Darmiyan (Bich) Me Barkat Naazil Hoti Hai, Iss Liye Iske Kinaro Se Khawo, Darmiyan (Bich) Se Mat Khao.
[Ibne Maajah]

Jo Khane Ke Bartan Ko Chaat Lega Wo Bartan Uske Liye Astagfar Karega.
[Tirmizi Sharif]

* Hadees : Nabi-e-Paak Sallallahu Alaihi Wasallam Ne Farmaya, "Koi Khaana Khaye Toh Wo Uss Waqt Tak Haath Na Dhoye Jab Tak Wo Ungliyon Ko Chaat Na Le".
[Bukhari Sharif]

* Hadees: Nabi-e-Paak Sallallahu Alaihi Wasallam Ne Farmaya, "Khana Kha Ke Shukar Ada Karne Wale Ka Darja, Sabr Karne Wale Rozedar Ke Barabar Hota Hai".
[Tirmizi, Hadees: 2021]

* Khane Ke Baad Ek Martaba "SURA-E-IKHLAS(Kul Huwallahu Ahad)" Padhnewale ko Jannat Me Surkh(Laal) Mahal Diya Jayega
[Nuz'hatul Majaalis]

* Hazrat Muhammad Mustafa Sallallahu Alaihi Wasallam ne Irshad Farmaya "Raat Ka Khana Na Chodo Ek Muththi Khajoor Hi Kyu Na Ho, Kyunki Raat Ka Khana Tark Karna Aadmi Ko Zaeef Kar Deta Hai.
[Ibne Majah]

* Hazrat Muhammad Mustafa Sallallahu Alaihi Wasallam ne Irshad Farmaya "Piyale me Jo Jagah Tuti Hui He Waha se Pine Ki or Pine Ki Chiz Main Phunk ne Ko Mana Farmaya Hai.
[Abu Dawood]

* Hazrat Muhammad Mustafa Sallallahu Alaihi Wasallam ne Irshad Farmaya "Tum Log Santara(Orange) Ko Istemal Kiya Karo Kyu Ki Yeh Dil Ko Mazbut Banata Hai.

* Hazrat Muhammad Mustafa Sallallahu Alaihi Wasallam ne Irshad Farmaya "Anaar(pomegranate) ko us ke Andhruni Chilke Ke Sath Khao Kyunki Ye MA'ADA Ko Saaf Karta Hai or Anjeer(figs) Khaya Karo Ke Ye BAWASIR ko Khatam Karta Hai.

* Hazrat Muhammad Mustafa Sallallahu Alaihi Wasallam ko Halwa, Shahad(Honey), Siraka(vinegar), Khajur(Dates), Tarbooj(watermelon), Kakdi or Lauki(bottle gourd) Bahot pasand the.
[Khane Ka Islami Tarika]

* Sarid Yani Saalan Ke Shorbe(Soup) Me Bhigoyi Hui Roti Ke Tukde Sarkar Madina Sallallahu Alaihi Wasallam Ko Bahot Pasand The.

Khana Khane Ka Sunnat Tarika Hadees sharif ki roshni main | Khana Khane Ke Pehle Ki Dua | Khana Khane Ke Baad Ki Dua | Islamic Sunnah Way Of Eating | Etiquette Of Eating in Islam..

Post a Comment

[blogger]

Contact Form

Name

Email *

Message *