Jummah Ko Rooho Ka Apne Ghar Aana | जुम्मा को रुहो का अपने घर आना

जुम्मा को रुहो का अपने घर आना | Jummah Ko Rooho Ka Apne Ghar Aana:

بِسْــــــمِ اللّٰهِ الرَّحْمٰنِ الرَّحِىْمِ
اَلصَّــلٰوةُ وَا لسَّلَامُ عَلَيْكَ يَا رَسُوْلَ اللّٰه ﷺ

हजरत शाह अब्दुल हक मुहद्दिस (रहमतुल्लाह अलैह) नक्ल करते है की:- "बाज रिवायतो मे आया है की मय्यत की रुह सबे जुम्मा को अपने घर आती है और देखती है की उसकी तरफ से कोई सदका करता है या नही??
[अशहतुल लमआत शरहे मिश्कात बाब : किताबुल जनैज जियारते कुबुर जिल्द-2, सफा-924-925]
[फत्वा रिजवीया जिल्द-9, सफा-652]

मोमीन की रुह हर सबे जुम्मा, ईद के दिन, आशुरह के दिन, और शबे बरात, अपने घर आकर बाहर खड़ी होती है और हर रुह गमनाक बुलन्द अवाज से निदा करती है की ऐ मेरे घर वालो ऐ मेरे औलाद ऐ मेरे रिश्तेदारो सदका करके हम पे मेहरबानी करो।
[कशफुल गैत बाब : अहकामे दुआ सफा-66]
[फत्वा रिजवीया जिल्द-9, सफा-652]

कम से कम जुम्मा के दिन अपने घर इन्तेकाल कर चुके घरवालो को इसाले सवाब जरुर कर दिया करे। क्योंकी हम जो पढ़कर या करके इसाले सवाब करेंगे ओ उनको पहुंचेगा जिससे उनको फायदा हासिल होगा। अगर वो मय्यत गुनाहगार थी तो गुनाह माफ होंगे और नेकियां मिलेगी और मय्यत नेक थी तो उसके जन्नत मे दर्जे बुलन्द होंगे।

अल्लाह रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

Jummah Ko Rooho Ka Apne Ghar Aana:

Hazrat Shah Abdul Haq Muhaddis Dehlvi Rehmatullah Alaih Naqal Karte Hai Ki : "Baaz Rivayato Me Aaya Hai Ki Mayyat Ki Rooh Shabe Jumma Ko Apne Ghar Aati Hai Aur Dekhti Hai Ki Uski Taraf Se Koi Sadqa Karta Hai Ya Nahi.
[Ashatul Lam'aat Sharhe Mishkat Baab: Kitabul Janaiz Ziyarate Qubur, Jild: 2 Safa: 924,925]
[Fatawa Razawiya, Jild: 9, Safa: 652]

Momin Ki Rooh Har Shabe Jumma, Eid Ke Din, Aashura Ke Din Aur Shabe Barat Ko Apne Ghar Aakar Bahar Khadi Hoti Hai Aur Har Rooh Gamnaak Buland Aawaz Se Nida Karti Hai Ki Aye Mere Ghar Walo Aye Mere Aulad Aye Mere Rishtedaro Sadqa Karke Hum Par Meharbani Karo.
[Kashful Gait, Baab: Ahkame Dua, Safa: 66]
[Fatawa Razaviya, Jild: 9, Safa: 652]

Kam Az Kam Jumma Ke Din Apne Ghar Inteqal Kar Chuke Gharwalo Ko Isale Sawab Jarur Kar Diya Kare Kyunki Hum Jo Padh Kar, Ya Sadqa Karke Isale Sawab Karenge Wo Unko Pohchega Jisss Unko Faayda Hasil Hoga, Agar Wo Mayyat Gunahgaar Thi To Gunah Maaf Honge Aur Nekiya Milegi Aur Mayyat Nek Thi To Uske Jannat Me Darje Buland Honge.

Allah Rabbul Azeem Hum Sab Musalmano Ko Kehne, Sunne Or Sirf Padhne Se Zyada Amal Karne Ki Tofik Ata Farmaye Aur Hamare Rasool Nabe E Kareem Sallallahu Alaihi Wasallam Ki Bataayi Hui Sunnato Or Unke Bataaye Hue Raasto Par Hum Sab Ko Chalne Ki Tofik Ata Karein. (Aameen)

Related Articles:

Jummah Ko Rooho Ka Apne Ghar Aana | जुम्मा को रुहो का अपने घर आना Hadith Sharif ki Roshni Mein.

Post a Comment

[blogger]

Contact Form

Name

Email *

Message *