Darood Sharif Ki Fazilat in Hindi

दरूद शरीफ के कुछ फज़ायल मुलाहज़ा फरमा लें

Darood Sharif Ki Fazilat in Hindi, Durood Shareef Ki Fazilat, durood sharif ki ahmiyat, quran aur hadees, darood sharif ki barkat, darood sharif hindi mai likha hua, sab se chota darood sharif, Hindi Article,
1⃣  जो कोई एक बार दुरूदे पाक पढ़ता है तो उसके दुरूद से एक परिंदा पैदा होता है जिसके 70000 बाज़ू हैं हर बाज़ू में 70000 पर हैं हर पर में 70000 चेहरे हैं हर चेहरे में 70000 मुहं हैं हर मुहं में 70000 ज़बान है और वो हर ज़बान से 70000 बोलियों में रब की तस्बीह पढ़ता है और इन तमाम तस्बीहों का सवाब उस पढ़ने वाले के नामये आमाल में लिखा जाता है
[नूर से ज़हूर तक,सफह 15]

*सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम*

2⃣  जो नबी पर एक बार दुरूद शरीफ पढ़ेगा तो मौला तआला उस पर 10 रहमते नाज़िल फरमायेगा उसके 10 गुनाह मिटा देगा और उसके 10 दर्जे बुलन्द करेगा और दूसरी रिवायत में है कि मौला और उसके फरिश्ते उस पर 70 मर्तबा दुरूद पढ़ते हैं
[बहारे शरीयत,हिस्सा 3,सफह 76]

*सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम*

3⃣  जो रोज़ाना 100 बार नबी करीम सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम पर दुरूदे पाक पढ़े और शहादत की तमन्ना रखे तो वह शहीद मरेगा
[बहारे शरीयत,हिस्सा 4,सफह 174]

*सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम*

4⃣  जो कोई दिन भर में 1000 बार दुरूद शरीफ पढ़ेगा तो वो उस वक़्त तक नहीं मरेगा जब तक कि अपनी जगह जन्नत में ना देख ले
[खज़ीनये दुरूद शरीफ,सफह 14]

*सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम*

5⃣  जब भी जहां भी और जितनी बार भी नबी करीम सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम का नाम मुबारक आये तो हर बार आप पर दुरूदे पाक पढ़ना बाज़ उल्मा के नज़दीक वाजिब है और ऐसा ना करने वालों पर सख्त वईदें आई है
[बहारे शरीअत,हिस्सा 1,सफह 21]

*सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम*
[ads-post]
6⃣  हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम फरमाते हैं कि जिसने रमज़ान पाया और अपनी बख्शिश ना करा सका वो हलाक हुआ जिसने अपने वालिदैन को पाया और उनकी खिदमत करके अपनी बख्शिश ना करा सका वो हलाक हुआ और जिसके पास मेरा ज़िक्र हुआ और उसने मुझ पर दुरूद ना पढ़ा वो हलाक हुआ
[बहारे शरीअत,हिस्सा 5,सफह 97]

*सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम*

7⃣  बाज़ लोग हिंदी में नामे अक़्दस के आगे बजाये पूरा सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम लिखने के सिर्फ सल्ल0 लिखते हैं या अंग्रेजी में s.a.w और उर्दू में ص ل ع م लिख देते हैं ऐसा करना सख्त नाजायज़ो हराम है
[बहारे शरीअत,हिस्सा 1,सफह 21]

*सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम*

8⃣  हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम फरमाते हैं कि जिसने मेरे नाम के साथ दुरूदे पाक लिखा तो जब तक वो वहां लिखा रहेगा फरिश्ते उसके लिए मग़फिरत की दुआ करते रहेंगे और उसका सवाब जारी रहेगा
[कुर्बे मुस्तफा,सफह 79-80]

*सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम*

9⃣  जिसने दुआ के अव्वल और आखिर में दुरूद शरीफ पढ़ा तो उसकी दुआ रद्द नहीं की जाती
[क़ुर्बे मुस्तफा,सफह 75]

*सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम*

🔟 जिसने दुरूदे पाक को ही अपना वज़ीफा बना लिया तो ये उसकी दुनिया और आखिरत के लिए तन्हा काफी है और उसको दूसरे किसी वज़ीफे की जरूरत नहीं है
[बहारे शरीयत,हिस्सा 3,सफह 77]

*सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम*

* हदीसे पाक में आता है कि इल्म फैलाने वाले के बराबर कोई आदमी सदक़ा नहीं कर सकता*
[क़ुर्बे मुस्तफा,सफह 100]

Related Post:

Darood Sharif Ki Fazilat Hindi Mein Hadees Sharif Ki Roshni Mein | Sabse Chota Darood Sharif...

Post a Comment

[facebook][disqus]

Contact Form

Name

Email *

Message *